सप्तश्रृंगी देवी - वाणी , महाराष्ट्र

स्थान :- यह मंदिर नासिक से 60 किलोमीटर की दूरी पर नंडूरी , महाराष्ट्र के कालवन तालुका में स्थित है। यह मंदिर सात पर्वत चोटियों से घिरा है और इसलिए नाम सप्तश्रृंगी  है। सप्त का मतलब है सात और श्रृंगी का मतलब है चोटी । यह कल्सुबाई के बाद सतपुड़ा पर्वत शैली  के दूसरे सर्वोच्च छोटी पर स्थित है

सप्तश्रृंगी देवी मंदिर

मुख्य देवता :-

यह मंदिर शक्ति भक्तों के लिए एक तीर्थ स्थान है और देश की शक्ति पीठो का एक हिस्सा है । यहाँ की मुख्य देवी - देवी दुर्गा या भगवती है ।

सप्तश्रृंगी देवी खानदेश की देवी के रूप में मानते है । खानदेश में शामिल है  - चालिसगाओं  , जलगांव , मालेगांव और धूलिया । एक मंच के ऊपर देवी की मूर्ति है जिसे दूरी से देखा जा सकता है । उनके १८ हाथो ममे  विभिन्न हथियारों को पकड़े  है। मूर्ति 10 फुट लम्बी  है । मूर्ति हमेशा एक साड़ी और पारंपरिक गहनों में सजाई जाती है  और इसे सिंदूर के साथ सजाया गया है।

हथियार - त्रिशूल,  चक्र,  शंख, अग्नि दाहक, धनुष-बाण, वज्र , घंटा, दंड,  स्फटिकमाला, कमंडल, सूर्य की किरणें, तलवार, हार, कुंडल , परशु , कवच,  कमलाहार, हिमालय का रत्न हैं।

इतिहास :- 
  • हिंदू परंपरा में शक्ति पूजा के लिए साढ़े तीन शुभ दिन होते हैं। यह दिन है गुडीपडवा (नव वर्ष),दसरा , दीवाली और अक्षयतृतीया हैं। इसके अलावा, ओम के मंत्र में साढ़े तीन अक्षरों हैं - अ,उ,म और म्म्। महाराष्ट्र में दिलचस्प बात यह है इन अक्षरों का क्रमशः अनुरूप चार शक्ति पीठो को दर्शाते है  -  जहां तुलजापुर (तुलजा भवानी), कोल्हापुर (अम्बा बाई), और माहुर (कुलस्वामिनी) और सप्तश्रृंगी (भगवती देवी)  इस जगह सती का  दाहिने हाथ गिरा था। पारम्परिक  शास्त्रों में इस मंदिर का विशेष उल्लेख नहीं है इसलिए सप्तश्रृंगी को एक पूर्ण शक्ति पीठ नहीं माना जाता है। इसे अर्धशक्ति पीठ भी कहते है। 
  • इस पहाड़ी क्षेत्र में औषधीय मूल्य वाले पेड़ भरे हुए हैं। इस जगह से भगवान हनुमान ने श्री लक्ष्मण के लिए संजीवनी जड़ी बूटी लायी थी। 
  • मंदिर के सामने मार्कंड ऋषि की पहाड़ी । ऋषि को दानव महिसासुर परेशान किये जा रहा था। ऋषि ने एक पवित्र अग्नि में दानव का अंत करने का फैसला किया। इसी अग्नि से देवी दुर्गा उभरी और  और दानव को मार डाला। इसलिए वह महिषासुर मर्दिनी  के रूप में जनि जाती है। 
  • एक अन्य कथा से ऐसा मानना है की सप्तश्रृंगी देवी, भगवान ब्रह्मा के पानी के कमंडल  से बहती गिरिजा नदी का दूसरा रूप है। इसलिए देवी को ब्रह्मस्वरूपिणी कहा जाता है।

विशेषता: -

  • पहाड़ी पर लगभग 108 पानी के कुण्ड है।
  • आसपास के क्षेत्र में दुकानें फूल, साड़ियां और अन्य पूजा से संबंधित सामान बेचते हैं।


त्योहारों और प्रार्थना :- 


  • हर पूर्णिमा के दिन और नवरात्रि के दौरान मंदिर में भीड़ होती  है। देवी को नारियल और साड़ियों की पेशकश की जाती है । लोग देवी से उनकी इच्छाओं को पूरा करने का आशीष लेते है  । इसलिए इस जगह  साल भर भक्तों की यात्रा होती है ।
  • चैत्रोत्सव का सबसे बड़ा त्योहार राम नवमी के दौरान होता है । भक्त अक्सर पूरे पहाड़ी की प्रदक्षिणा ( परिक्रमा ) करते  देखा जाता है। इस के अलावा अन्य त्योहार दशहरा, गुड़ी पड़वा , गोकुलाष्टमी और कोजागिरी हैं ।
  • कुछ समुदाय अपने  परिवार में एक नए जन्म के बाद देवी की पूजा करते हैं।
  • एक अन्य प्रमुख उत्सव गोंधळ है । यह एक तुन्तुना के उपयोग के साथ गोंधळी  समुदायों द्वारा किया जाने वाला पारंपरिक नृत्य है।  छोटे ड्रम और झांझरो का भी उपयोग किया जाता है । गोंधळ को  शादी, जन्म और अन्य प्रमुख घटनाओं के दौरान किया जाता है ।


दिशा निर्देश :- मंदिर एक पहाड़ी के ऊपर है।  मंदिर के लिए ऊपर चढ़ने के 450 सीढ़िया  है । वरिष्ठ नागरिक और विकलांगों के लिए , एक पालकी सेवा उपलब्ध कराया जाता है । इन लोगो को दर्शन के लिए कतार में इंतजार करने की जरूरत नहीं है ।


  • सड़क मार्ग: - पर्यटन के बुनियादी ढांचे में विकास के कारण, सड़कें अच्छी तरह से पक्की है और सीढ़ियां अच्छी तरह तैयार की गयी है । परन्तु यह एक पहाड़ी इलाका है और रस्ते घुमावपूर्ण है।  महाराष्ट्र सड़क परिवहन बसे नंडूरी से उपलब्ध हैं। अगर आप अपने खुद के वाहन चला रहे हैं , तो वे विशाल पार्किंग का रिक्त स्थान उपलब्ध हैं। 
  • वायु द्वारा - निकटतम हवाई अड्डा नासिक है । यहाँ तक  मुंबई और पुणे के हवाई अड्डों से पहुँचा जा सकता है
  • ट्रेन से : - नासिक में अच्छी तरह से भारत में किसी भी बड़े शहर से रेलवे लाइनों से जुड़ा हुआ है


पता : सप्तश्रृंगी ,महाराष्ट्र 422215 भारत

दूरध्वनी :-(02592)-253351

आसपास के स्थान -
  • पंचवटी 
  • शिर्डी 
  • सिद्धेश्वर मंदिर 
Image Courtesy:- Wikipedia Images

No comments:

Post a Comment